Thursday, 25 July 2013

VIJAY DIWAS



‘हतो वा प्राप्स्यसि स्वर्गं जित्वा वा भोक्ष्यसे महीम्‌’।

(या तो तू युद्ध में बलिदान देकर स्वर्ग को प्राप्त करेगा अथवा विजयश्री प्राप्त कर पृथ्वी का राज भोगेगा।) गीता के इसी श्लोक को प्रेरणा मानकर भारत के शूरवीरों ने कारगिल युद्ध में दुश्मन को पाँव पीछे खींचने के लिए मजबूर कर दिया था। यह दिन है उन शहीदों को याद कर अपने श्रद्धा-सुमन अर्पण करने का, जो हँसते-हँसते मातृभूमि की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए। यह दिन समर्पित है उन्हें, जिन्होंने अपना आज हमारे कल के लिए बलिदान कर दिया। कारगिल युद्ध भारत के इतिहास में एक ऐसी बानगी रखता है जब पूरा देश अपनी सीमाओं की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध था।



आज से 14 साल पहले सन् 1999 में कारगिल में हुए युद्ध में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना को धूल चटा दी थी | कारगिल युद्ध को ऑपरेशन विजय कहा जाता है . इस युद्ध में भारत के 527 वीर जवान शहीद हुए थे

नमन उन शूरवीरों को… 
वन्दे मातरम ....
भारत माता की जय।